ना गिनकर देता है,
ना तोलकर देता है,
जब भी मेरा ‘श्याम’ देता है,
दिल खोल कर देता है।…..

जै श्री राधे कृष्ण!!!!!!!!!!

——————————

पल पल हर पल तुमको पुकारू
जनम जनम से बाट निहारु
कर दे कृपा तोपे तन मन वारू
अपने बाग का फूल समझ कर
प्रेम करो कृष्णा प्रेम करो कृष्णा..

——————————

जी भर के देखूं तुझे अगर तुझको गवारा हो
बेताब मेरी नजरें हो और चेहरा तुम्हारा हो

——————————

नाम महाधन है अपनो..
नही दूसरी संपत्ति और कमानी
छोड अट्टारी अता जग के,
हम वो कुटिया ब्रज माही बनानी..
टूक मिलें रसिको के सदा,
और पीवन को यमुना जल पानी..
हमे औरन की परवाह नही,
अपनी ठकुरानी श्री राधिका रानी..
जय राधे राधे, जय राधे राध

——————————

|| जय श्री श्याम ||
रंग बिरंगा बागा पहन के बाबा
देखो मन ही मन मुस्काये रहा…
केसर चन्दन तिलक लगा श्याम
खाटू बैठे सब पर प्यार लुटाए रहा…!!!
|| जय श्री श्याम ||

——————————

https://i0.wp.com/www.shyamsakha.in/wp-content/uploads/2016/10/fdb0337b-03ca-430a-9fe6-5e7b29212411.jpg?fit=612%2C612https://i0.wp.com/www.shyamsakha.in/wp-content/uploads/2016/10/fdb0337b-03ca-430a-9fe6-5e7b29212411.jpg?resize=150%2C150adminश्याम शायरीkhatu shyam shayari in hin,shyam baba ki shayari in hindiना गिनकर देता है, ना तोलकर देता है, जब भी मेरा ‘श्याम’ देता है, दिल खोल कर देता है।….. जै श्री राधे कृष्ण!!!!!!!!!! ------------------------------ पल पल हर पल तुमको पुकारू जनम जनम से बाट निहारु कर दे कृपा तोपे तन मन वारू अपने बाग का फूल समझ कर प्रेम करो कृष्णा प्रेम करो कृष्णा.. ------------------------------ जी भर के देखूं तुझे अगर...Hare Ka Sahara, Baba Syam Hamara