पलकें झुकें , और नमन हो जाए…….!!
मस्तक झुके, और वंदन हो जाए……!!
ऐसी नज़र, कंहाँ से लाऊँ, मेरे कन्हैया
कि आपको याद करूँ और आपके दर्शन हो जाए..!!

————————————————–

कृष्णा तेरी गलियों का जो आनंद है,
वो दुनिया के किसी कोने में नहीं ।
जो मजा तेरी वृंदावन की रज में है,
मैंने पाया किसी बिछौने में नहीं ।।

————————————————–

पल पल हर पल तुमको पुकारू
जनम जनम से बाट निहारु
कर दे कृपा तोपे तन मन वारू
अपने बाग का फूल समझ कर
प्रेम करो कृष्णा प्रेम करो कृष्णा..

————————————————–

जब से तेरी नजर मुझ पर हो गई
सारे
जमाने को ये खबर हो गई,
आया था तेरे दर पे भिखारी बनके
और आज शहंशाहो जैसी कदर हो गई

————————————————–

फिक्र करता है क्यूँ, फिक्र से होता है क्या
रख भरोसा श्याम पर, फिर देख होता है क्या

https://i0.wp.com/www.shyamsakha.in/wp-content/uploads/2016/10/shyam-baba-images.gif?fit=480%2C480https://i0.wp.com/www.shyamsakha.in/wp-content/uploads/2016/10/shyam-baba-images.gif?resize=150%2C150adminश्याम शायरीshri shyam baba quotes,shyam baba quotes in hindiपलकें झुकें , और नमन हो जाए…….!! मस्तक झुके, और वंदन हो जाए……!! ऐसी नज़र, कंहाँ से लाऊँ, मेरे कन्हैया कि आपको याद करूँ और आपके दर्शन हो जाए..!! -------------------------------------------------- कृष्णा तेरी गलियों का जो आनंद है, वो दुनिया के किसी कोने में नहीं । जो मजा तेरी वृंदावन की रज में है, मैंने पाया किसी बिछौने...Hare Ka Sahara, Baba Syam Hamara