रात श्याम सपने में आए,
धाइया पी गये सारा रारा सारा रारा,
रात श्याम सपने में आए,

जब श्याम मेरी खिड़की खोली,
खिड़की कर गई चर रारा चर रारा,
रात श्याम सपने में आए…..

जब श्याम मेरी बाइया पकड़ी ,
बाइया कर गई करा रारा करा रारा,
रात श्याम सपने में आए ….

जब श्याम मेरो माखन खायो,
मटकी फोड़ी तारा रारा,तारा रारा,
रात श्याम सपने में आए …..

जब श्याम मेरी चुनर झटकी,
चुनर उड़ गई उड़ उड़ उड़ उड़ गई…
चुनर उड़ गई फर राराफर रारा…
रात श्याम सपने में आए….

चंद्रा सखी भज बाल कृष्णा छवि,
भव से तर जाए तारा रारा…तारा रारा…
रात श्याम सपने में आए ..




https://i2.wp.com/www.shyamsakha.in/wp-content/uploads/2018/05/Krishna-1.jpg?fit=700%2C415https://i2.wp.com/www.shyamsakha.in/wp-content/uploads/2018/05/Krishna-1.jpg?resize=150%2C150adminBhajan Lyrics(adsbygoogle = window.adsbygoogle || ).push({});Hare Ka Sahara, Baba Syam Hamara