श्याम बाबा की अरदास

हाथ जोड़ विनती करू , सुनियो चित्त लगाएं

दास आ गयो सरन में , रखियो म्हारी लाज

धन्य ढुंढारो देश हैं , खाटू नगर सुजान

अनुपम छवि मेरे श्याम की, दर्शन से कल्याण

श्री श्याम श्याम तो मैं रटू , श्याम है जीवन प्राण

श्याम भक्त जग में बड़े , उनको कर प्रणाम

खाटू नगर के बीच में , बण्यो आपको धाम

फागुन शुक्ल मेला भरे , जय जय बाबा श्याम

फागुन शुक्ला द्वादशी , उत्त्सव भरी होये

मेरे बाबा के दरबार से , खाली जाये न कोए

उमापति लक्ष्मीपति , सीतापति श्री राम

लज़्ज़ा सबकी राखियो , खाटू  बाबा श्याम

पान सुपारी इलाइची , इतर शुगंधि भरपूर

सब भक्तन की विनती ,  दर्शन देओ हुज़ूर

‘आलूसिंह’  प्रेम से , धरयो श्याम को ध्यान

श्याम भक्त पावे सदा , श्याम कृपा से मान

श्याम कृपा से मान,श्याम कृपा से मान……

बोलो खाटू नरेश की जय , लखदातार की जय

 logo_shyam